सम्मेलन में 14 रिश्ते तय, बहुतों की बात आगे बड़ी

0
13

ब्राह्मण सम्मेलन में उठी आर्थिक आरक्षण की मांग

सम्मेलन में 14 रिश्ते तय, बहुतों की बात आगे बड़ी

भोपाल : ब्राह्मण एकता अस्मिता सहयोग एवं संस्कार मंच द्वारा आयोजित ब्राह्मण समाज के युवक युवती परिचय सम्मेलन में लगभग 500 युवक युवतियों ने रजिस्ट्रेशन कराए थे जिनमें 14 रिश्ते मौके पर ही तय हो गए। कई परिवारों में कुंडली मिलान एवं रिश्ते को लेकर बात आगे चल पड़ी। कार्यक्रम के दौरान ब्राह्मण परिचायिका का विमोचन भी किया गया जिसमें 1500 अविवाहितों की जानकारी दी गई है। सम्मेलन में बड़ी संख्या में प्रदेश के नीमच, देवास, उज्जैन, होशंगाबाद, विदिशा, सीहोर,इन्दौर, टीकमगढ़, छतरपुर, ग्वालियर, सागर, दमोह, छिंदवाड़ा, हरदा, खंडवा, दतिया एवं दूसरे प्रदेशों से अविवाहित युवक एवं युवतियां अपने परिवार के साथ सम्मेलन में पहुंचे थे। मंच के अध्यक्ष राकेश चतुर्वेदी ने बताया कि पूर्व में प्रातः 10 बजे ब्राह्मणों की दशा एवं दिशा पर चिंतन विषय पर प्रशासनिक सेवा क्षेत्र के आईएएस एवं आईपीएस अधिकारियों ने बड़ी मजबूती से अपने विचार रखे। आईएएस वीणा घाणेकर, हीरालाल त्रिवेदी, रमाकांत दुबे, पूर्व डीजीपी जीपी दुबे सीजीएम बीएसएनएल महेश शुक्ला गौरीशंकर शर्मा ‘गौरीश’ शिवनारायण शर्मा पार्षद गिरीश शर्मा वैभव भटेले एवं सीबी तिवारी आदि ने अपने उद्बोधन में वर्तमान आरक्षण का पुरजोर विरोध किया। उन्होंने स्पष्ट कहा कि आरक्षण का आधार सिर्फ आर्थिक होना चाहिए जो मानवीय भी होगा। ब्राह्मणों को अपने हितों की रक्षा के लिए वर्गों की संस्कृति से परे होकर इकट्ठा होना चाहिए और समाज पर कुत्सित प्रयासों का विरोध भी करना चाहिए। विमर्श में एक ओर जहां ब्राह्मणों के आचरण एवं संस्कारों में आई गिरावट पर गहन चिंतन किया गया वहीं वर्गों में बंटे समाज को एकजुट होकर अपने संस्कारों को आचरण में उतारने की बात कही गई। हिंदी ग्रंथ अकादमी के निदेशक पंडित सुरेन्द्र बिहारी गौस्वामी ने कहा कि ब्राह्मणों के कार्यक्रम दिव्य होते हैं क्योंकि ब्राह्मण वामन के अवतार हैं। इसलिए सभी मनुष्य 52 उंगली के नाप के होते हैं। कानपुर से आए मानव अधिकार संरक्षण आर्गेनाइजेशन के अध्यक्ष तपन अग्निहोत्री ने कार्यक्रम में ब्राह्मणों की संख्या बल पर प्रसन्नता व्यक्त की एवं मंच के कार्यों की सराहना की। कार्यक्रम का संचालन प्रेम गुरु एवं विनीता मिश्रा ने किया।कार्यक्रम में पंडित श्री रमेश लिटोरिया, श्री एल एन शर्मा, श्री राजेश रिछारिया, श्री संदीप तिवारी, श्री गोपाल स्वरूप दुबे, श्री श्रीकांत अवस्थी, श्री विष्णु प्रसाद तिवारी, श्री ए.के. शर्मा, श्री अशोक बबेले, श्री सीबी तिवारी, पं.श्री जगदीश शर्मा, श्री विवेक पटेरिया, श्री राजकुमार चौबे, श्री मुकेश चौबे, श्री अंबिका प्रसाद भारद्वाज, श्री पीएन कटारे, श्री हरीश मिश्रा, श्री सतीश पुरोहित, श्री सचिन मिश्रा, श्री अजय पाण्डेय, डॉ. श्री पी. शर्मा, पं. श्री रूपनारायण शास्त्री, पं. श्री फूलचंद शास्त्री श्री नारायण दुबे श्री विजय गौतम, श्री प्रशांत दीक्षित श्री गिरीश दुबे श्री घनश्याम तिवारी श्री राजा शास्त्री श्री अरुण दुवे श्री अशोक शर्मा, श्री ओम नारायण रिछारिया, श्री ओमप्रकाश चौबे श्री हेमन्त शर्मा श्री ओमप्रकाश शर्मा श्री वेदप्रकाश दुबे महिला विंग – श्रीमती श्रद्दा पांडेय, श्रीमती कल्पना रावत, श्रीमती राजकुमारी अवस्थी, श्रीमती नीतू त्रिपाठी, श्रीमती विनीत मिश्रा, श्रीमती संगीता उपाध्याय, श्रीमती वरुणा रिछारिया, श्रीमती ऋतु तिवारी, श्रीमती अन्नपूर्णा रावत, श्रीमती संध्या मिश्रा, श्रीमती अर्चना पाण्डे, श्रीमती प्रियंका शर्मा, श्रीमती ममता शर्मा, श्रीमती ममता कटारे, श्रीमती प्रतिमा दीक्षित, श्रीमती चिंता शर्मा, श्रीमती किरण रावत, श्रीमती प्रतिभा तिवारी श्रीमती रेखा पाण्डे आदि उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here